Skip to main content

बिहार चुनाव के पहले ढ़ह गया कई समीकरण

 पटना। न्यूज़। (विद्रोही)। बिहार विधानसभा चुनाव में  युद्ध लड़ने से पहले कई समीकरण बिखड़ गया है। कई किला में दरारें पड़ गयी है वहीं नए समीकरण भी तैयार हो गए हैं। पक्ष हो या विपक्ष दोनो तरफ के घर टूटे हैं। जहां घर नहीं टूटे हैं वहां दरारें अवश्य पड़ी है। बिहार चुनाव के महाभारत के पहले एनडीए और महागठबंधन की सेनाएं तैयार हो रही है। साथ ही एक तीसरा मोर्चा भी करवट ले रहा है। बात यदि एनडीए की करें तो यहां भी चुनाव के पहले ही चोट लग गयी है। चाहे सीट बंटवारे को लेकर हो या प्रत्याशी चयन को लेकर।

 एनडीए के पार्टनर चिराग पासवान ने जोर का झटका धीरे से दे दिया है। उसकी राहें सैद्धान्तिक रूप से अलग हो चुकी है भले ही भाजपा के शीर्ष नेता एनडीए एकजुटता की बात कर रहे हों। लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान 143 सीटों पर उम्मीदवार खड़े करने करने की तैयारी में हैं। लोजपा के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि यदि एनडीए में रहे तो भी नीतीश कुमार की जलालत चुनाव जीतने के बाद झेलनी होगी। मंत्री बनाने के लिए चिरौरी करनी होगी। यदि एनडीए में भी तो गांठें लग ही गई है। इस तरह एनडीए की दीवारें भी चटकी नजर आ रही है।


महागठगठबंधन की बातें करें तो यह साफ टूट गया है। इसके पार्टनर रहे जीतनराम मांझी पहले ही झटका देकर जदयू के पाले आ गए हैं। यानी हम नेता एनडीए से जुड़कर नीतीश का गीत गाना शुरू कर दिए हैं। वहीं महागठबंधन के एक और पार्टनर उपेंद्र कुशवाहा की राहें भी अलग हो गयी है। एनडीए में उनके लिए दरवाजा खोलने का शुभ मुहूर्त निकलना बाकी है। वे एनडीए के दामन थामे या फ्रेंडली मैच खेलें महागठबंधन को तो झटका लग ही गया है।


रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में एनडीए के पार्टनर थे और इस चुनाव में उनके तीन सांसद जीतकर आये थे पर हमेशा कुछ नया करने की उनकी इच्छा ने महागठबंधन में धकेल दिया था। एक समय उपेंद्र कुशवाहा नीतीश से भी अधिक जनाधार वाले नेता माने जाते थे पर अस्थिरता उनके ग्राफ को और गिरा दी।


चुनाव के पहले उठापटक के इस खेल से भाजपा अपने को अलग रखे हुई है। वह जानती है कि नीतीश कुमार और चिराग पासवान में तनातनी है पर मौन साधकर एनडीए एकजुटता की बात कर रही है। यदि सच आकलन किया जाए तो भाजपा के शीर्ष नेताओं की नजर फिलहाल केंद्र सरकार पर है। उनका एजेंडा वर्ष 2024 का चुनाव है। केंद्र सरकार से अकाली दल के अलग हो जाने से भाजपा के आक्रामक पांव थम गए हैं। शिवसेना पहले ही एनडीए को अलविदा कह चुकी है। ऐसे में बिहार में नीतीश कुमार के हौसले बुलंद है।


भाजपा यदि रिस्क लेती तो बिहार में उसके लिए बड़े भाई का रास्ता खुल सकता था, किन्तु पार्टी का शीर्ष नेतृत्व फिलहाल अपने पुराने सहयोगियों से ज्यादा किरकिरी कराने के पक्ष में नहीं है।भाजपा दफ्तर में श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिंह का आज जमकर विरोध हुआ है। कार्यकर्ता उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की गाड़ी के नीचे आ गए।



                              


Comments

Popular posts from this blog

चिराग के पीठ में चाकू मार रहे उनके सगे संबंधी और पार्टी के हालात का ठीकरा फोड़ रहे सौरव पर! Chirag relatives and JDU behind LJP faction but Saurav is dragged

 पटना। न्यूज़। लोजपा की टूट कहानी के पीछे कौन है, कौन जिम्मेवार है इसे पूरा देश जान गया है पर चिराग के पीठ में छुरा मारने वाले अपना दोष छिपाने के लिए सौरव पांडेय पर ठिकरा फोड़ रहे हैं। क्या चिराग नौसिखिए हैं कि सौरव पांडेय की बातें मान लेंगे। क्या चिराग में अपनी सोच नहीं है। क्या चिराग ने खुद बिहार विधानसभा चुनाव एनडीए से अलग होकर लड़ने का निर्णय नहीं किया था। चिराग ने तो अपने पिता स्व. रामविलास पासवान के रहते राजनीति शुरु कर दी थी। तो क्या रामविलास से अधिक धाक सौरव का हो गया था। क्या सौरव के कहने पर चिराग जमुई से चुनाव जीते ? वास्तविकता है कि चिराग में इतनी क्षमता है कि वह खुद निर्णय ले सके। चिराग सारे निर्णय खुद लेते हैं। चूंकि चिराग के चाचा जानते है कि सीधे भतीजा पर दोष गढ़ेंगे तो परिवार आहत होगा इसलिए सारा ठिकरा सौरभ पर फोड़ दिया जाए।  समाज में खुद कुरीतियां फैलाने वाले लोग जिस तरह ब्राह्मण पर ठिकरा फोड़ देते हैं उसी तरह चिराग के पीठ में छुरा भोंककर सौरव पर निशाना साधा जा रहा है। चिराग के करीबी का कहना है कि स्वर्गीय राम विलास पासवान के सलाह पर पारस के जगह प्रिंस को प्रदेश अध्यक्ष बनाया

तो पारस हॉस्पीटल में कोरोना पीड़ित महिला की आवाज का गला घोंट दिया गया। victim voice managed to keep mum

 पटना। न्यूज़। ( विद्रोही)। पटना के पारस अस्पताल में 17 अप्रैल को एक कोरोना पीड़ित महिला की अश्मिता से खेलने का मामला तेजी से वायरल हुआ था। खुद पीड़ित महिला की बेटी ने अपनी माता का वीडियो बनाकर सर्वजनिक किया था। किन्तु आज 18 अप्रैल उस मामले में अचानक नरमी आ गयी। पीड़ित महिला की बेटी ने अब तक कोई शिकायत नहीं दर्ज की है। उसका कहना है कि फिलहाल उसकी माँ वेंटिलेटर पर है और वह ठीक होकर खुद  बयान देगी। समझ लीजिए पूरी तरह मामले को मैनेज कर लिया गया। जो अस्पताल की छवि है उसे देखते हुए अनुमान लगाया जाता है कि अब पीड़ित महिला का बचना ही मुश्किल है। तो फिर बयान आएगा ही नहीं। पीड़ित महिला की बेटी में भी उस रोशन की पत्नी की तरह आग नहीं है जिसने भागलपुर और पटना के राजेश्वर अस्पताल को कटघरे में खड़ा कर दी । हम चाहते हैं कि ईश्वर पारस अस्पताल के पीड़ित महिला को लंबी जिंदगी दे। इसी बीच पप्पू यादव के नेतृत्व वाली जाप पार्टी की महिला विंग ने पारस अस्पताल पर धावा बोल दिया। जाप महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष रानी चौबे ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ पीड़ित महिला को न्याय दिलाने के लिए अस्पताल पहुंच गई। उन्होंने कहा

ललन सिंह जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष! Lalan Singh to be a National President of JDU

 पटना/ नई दिल्ली।  जदयू में राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह की ताजपोशी पार्टी के नए अध्यक्ष के रूप में होने जा रही है। नाम तय हो गया है। बस, राष्टीय कार्यकारिणी में ललन सिंह के नाम की घोषणा बाकी है। जदयू के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा की दावेदारी पीछे हो गयी। सूत्रों के मुताबिक उपेंद्र को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेवारी दी जाएगी।