Skip to main content

Posts

बिहार के बोचहा सीट को लेकर मुकेश साहनी की नोचानोची। BJP taught lesson to Sahni

 पटना। न्यूज़। भाजपा ने बोचहा सीट से अपना अधिकृत उम्मीदवार की घोषणा कर वीआईपी नेता मुकेश साहनी की हैकरी झाड़ दी है। मुकेश साहनी ने बोचहा सीट के लिए अपनी  दावेदारी ठोकी थी और एक तरह से भाजपा को खुली चुनौती दी थी कि इस सीट अपना उम्मीदवार घोषित कर दिखाए। मुकेश साहनी ने उत्तरप्रदेश में अपने उम्मीदवार खड़े कर भाजपा को हराने के काम किया। साहनी ने बयान भी जारी किया था कि उनका मकसद भाजपा को हराना है। भाजपा ने आज बोचहा सीट से बेबी कुमारी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। जाहिर है साहनी भी यहां से अपना उम्मीदवार अवश्य देंगे। ऐसे में एनडीए के घटक दलों के बीच टकराहट बढ़ेगी। यह भी तय है कि या तो वीआईपी भाजपा के समक्ष सरेंडर करेगी या अलग रास्ता नापेगी। दूसरे विकल्प की अधिक उम्मीद है।

तो भाजपा के अधिकृत नेता को शिकस्त देंगे सच्चिदानन्द ! Sachidanand tries to win sentiment of Chhapra

 पटना। न्यूज़। भजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व विधान पार्षद सच्चिदानन्द  राय ने विधान परिषद चुनाव के लिए पार्टी से उम्मीदवार नहीं बनाए जाने पर पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ खम ठोक दिया है। उन्हें जोरदार समर्थन भी मिल रहा है। उन्होंने भावुक अपील करते हुए सोशल मीडिया पर कहा कि छपरा (सारण) के कुछ विशेष नेताओं के कुचक्र का शिकार ना हो जाऊं इसके लिए मैंने आज भी  पुनः नामांकन दाखिल किया है। कुछ लोगो को मेरी बढ़ते जनसमर्थन पसन्द नही आ रही थी, जिसके लिए वे किसी भी स्तर की ओछी राजनीति कर सकते है। मैंने विधिवत रूप से कल 14 मार्च को अपना नामांकन प्रपत्र निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भरा था परंतु मेरे नामांकन पत्र को रद्द कराने की पुरजोर कोशिश करने की सूचना मिली, हालांकि मुझे चुनाव आयोग और प्रशासन पर भरोसा था फिर भी जनप्रतिनिधियों के दबाव में मैंने अपना पुनः नामांकन कराया है। जिस तरह पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को गुमराह कर कुछ राजनेता सारण जिले में भाजपा को कमजोर करने के लिए मुझे टिकट से वंचित कराया, उन्हें भय है कि मेरे रहते राजनीति का बाजारीकरण नहीं हो सकता , लोग जात धर्म में नही बंट सकते , इसलिये

बीजेपी चुप।विपक्ष नीतीश से मांफी मांगने पर अड़ा। Opposition demanding Nitish appology

 पटना। न्यूज़। एनडीए ने इस बार विपक्ष को बना बनाया मुद्दा दे दिया है। जिस जंगलराज व  राजद के शासनकाल को हवाला देकर बीजेपी और जदयू के नेता अपनी छवि चमकाते रहे हैं वही बीजेपी व जदयू इस बार अपने आचरण से विपक्ष के आगे बैकफुट पर है। राज्यसरकार की कोशिश है कि विपक्ष पर डोरे डाल सदन को सुचारू रूप से चला ले। अलबत्ता आज विधानसभा की कार्यवाही समय पर शुरू हो गयी। विधानसभा अध्यक्ष भी पधारे। विपक्ष की मांग पर अपना पक्ष भी रखा पर विपक्षी सदस्य मुख्यमंत्री नीतीश के वक्तव्य पर अड़े रहे। राजद सदस्यों ने नीतीश कुमार से मांफी मांगने की शर्त रख दी है। नहीं मानने पर पूरा विपक्ष सदन का बॉयकॉट किया। कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी  

बिहार भाजपा नीतीश के आगे बौना! अब कुछ खेला होगा।Bihar BJP feeling demoralize before Nitish leadership

 पटना। न्यूज़। पूरे देश में भाजपा की भले जय जयकार हो रही हो पर बिहार में भाजपा के समस्त नेता नीतीश के आगे बौना महसूस कर रहे हैं। प्रदेश नेताओं की पीड़ा है कि केंद्रीय नेतृत्व नीतीश के आगे उनकी एक भी नहीं सुनता। लिहाजा भाजपा के नेता लगातार बिहार में जलालत झेल रहे हैं। प्रदेश अध्यक्ष रिलीज जारी कर नीतीश के भय से वापस ले लेते हैं। बहरहाल नीतीश व विजय सिन्हा के ताजा मामला को लेकर  प्रदेश भाजपा अंदर ही अंदर घुट रही है पर पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के डर से आह भी नहीं प्रकट कर रही है। बिहार विधानसभा में कल जो भी हुआ वह गठबंधन के साथी के लिए ठीक नहीं है। पहली बार कोई मुख्यमंत्री विधानसभा अध्यक्ष को इतने कड़े लहजे में चेताया होगा। यह भी एक इतिहास ही है। मामला बहुत गंभीर है । यह देखना है कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व इस मामले को किस तरह सुलझाने की कोशिश करता है। यूपी तो भाजपा के हांथ आ गया है पर बिहार फिसलने का डर बन गया है। नीतीश के पास ऐसी बूटी है जिससे सत्ता की धुरी उनके इर्द गिर्द घूम रही है जबकि जातीय समीकरण उनके पक्ष में नहीं है। 43 सीटें लेकर भाजपा व राजद को बैकफुट पर रखे हुए हैं। कहने के लिए ब

नीतीश ने चेताया ऐसे नहीं चलेगा तो अध्यक्ष बोले आप ही बताइए कैसे चलेगा। Word war between Nitish and Vijay Sinha

 पटना। न्यूज़। विधानसभा में आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिंहा के बीच जोरदार शब्दयुद्ध छिड़ गया। दोनों की ओर से शब्दों के तीर चले। मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार व मंत्री विजेंद्र यादव का बचाव किया और सीधे विधानसभा अध्यक्ष को चेतावनी भरे लहजे में कहा सदन ऐसे नहीं चलेगा, आप ऐसे नहीं चला सकते। मुख्यमंत्री के शब्दों पर पर भाजपा कोटे से बने विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने दो टूक शब्दों में सीएम को कहा, आप ही बता दीजिए कैसे चलेगा। मुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष में करीब 10 मिनट तक शब्दों के तीर चलते रहे। मामला कुछ इस तरह का है। आज विधानसभा में भाजपा सदस्य संजय श्रावगी ने विधानसभा अध्यक्ष के क्षेत्र लखीसराय से संबंधित मामले को उठाते हुए राज्य सरकार को कानून व्यवस्था मामले में कटघरे में खड़ा कर दिया। उन्होंने कहा कि  निर्दोष को जेल मे बंद कर दिया और दोषी बाहर है। दोषी के घर की कुर्की जब्ती कब होगी।पुलिस कोई करवाई नहीं कर रही है। इस पर सरकार की तरफ से प्रभारी गृह मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि का। का। कमिटि इस बारे में जांच कर रही है। उत्तर से असंतुष्ट सदस्य

योगी को मिल गया नमो का आशीर्वाद। Yogi Adityanath going to take oath

 लखनऊ। न्यूज़। योगी आदित्यनाथ को पीएम नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद मिल गया है। योगी आदित्यनाथ ने आज दिल्ली जाकर पीएम, पार्टी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। पीएम ने आज फेसबुक वॉल पर कहा, आज MYogiAdityanath जी से भेंट हुई। उन्हें उत्तर प्रदेश चुनाव में मिली ऐतिहासिक जीत की बधाई दी। बीते 5 वर्षों में उन्होंने जन-आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए अथक परिश्रम किया है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आने वाले वर्षो में वे राज्य को विकास की और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाएंगे।

बाबा ही आएंगे, मृणाल मयंक की भविष्यवाणी सही, सीटों की संख्या भी सटीक। Jyotish prediction comes true

नई दिल्ली। न्यूज़। एक बार फिर ज्योतिषाचार्य मृणाल मयंक की भविष्यवाणी शत प्रतिशत सही साबित हुई। बाबा तो यूपी में आये ही साथ ही सीटों की संख्या भी सटीक बैठी। यूपी चुनाव से चार पांच महीने पहले ही मृणाल मयंक ने ज्योतिष गणना के आधार पर भविष्यवाणी कर दी थी कि यूपी में योगी आदित्यनाथ ही सत्ता में आएंगे। साथ ही भाजपा को 250 से 275 सीटें मिलेंगी। मृणाल मयंक ने योगी जी का हांथ देखकर बात दिया था कि इनका शनि बहुत स्ट्रॉग है जिसे मार्च अप्रैल तक पराजित करना असंभव है। आखिर आज जब यूपी का रिजल्ट आया तो पूर्व भविष्यवाणी के अनुसार बीजेपी को उतनी ही सीटें आयीं। ज्ञात हो कि इसके पहले मृणाल मयंक ने प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सत्ता में आने संदर्भ में सटीक भविष्यवाणी की थी।